Categories
Information Security

रिपोर्ट के अनुसार : 2020 में डेटा उल्लंघनों के 22 बिलियन से अधिक रिकॉर्ड मिले….

नई दिल्ली: 2020 में सार्वजनिक रूप से खुलासा किए गए डेटा उल्लंघनों के बीच दुनिया भर में 22 अरब से अधिक रिकॉर्ड उजागर किए गए थे, शुक्रवार को एक नई रिपोर्ट सामने आई है।

Covid19

जनवरी से साइबर एक्सपोजर टेनबल की सिक्योरिटी रिस्पांस टीम (SRT) द्वारा किए गए ब्रीच डेटा के विश्लेषण के अनुसार, पैंतीस प्रतिशत उल्लंघनों की वजह  रैंसमवेयर के हमलों से जोड़ा गया था, उसमे जबरदस्त वित्तीय लागत थी, जबकि 14 प्रतिशत उल्लंघनों में ईमेल समझौता था। यह पिछले साल अक्टूबर तक का रेकॉर्ड  हे।

2020 में खतरे के लक्ष में मेन विषयों में से एक यह था कि हमलावर अपने हमलों में अप्रकाशित कमजोरियों पर भरोसा करते थे और साथ ही साथ अपने हमलों के हिस्से के रूप में कई कमजोरियों को फॉलो करते थे।

टेनबल के स्टाफ रिसर्च इंजीनियर सतनाम नारंग ने कहा, “हर दिन, भारत और बाकी दुनिया में साइबर प्रोफेशनल्स को नई चुनौतियों और कमजोरियों का सामना करना पड़ता है, जो उनके बिजनेस को खतरे में डाल सकती हैं।”

नारंग ने कहा, “अकेले 2020 में दिखाई गई 18,358 हमले एक नए सामान्य और स्पष्ट संकेत को दर्शाती हैं कि साइबर डिफेंडर का काम और अधिक कठिन होता जा रहा है क्योंकि वे कभी-कभी और भी विकसित हमले को फेस करते हे ।”

2015 से 2020 तक, रिपोर्ट की गई सामान्य हमले और जोखिम भरे हमले  (सीवीई) की औसत वार्षिक बढ़ने का दर 36.6 प्रतिशत था ।

2020 में, 18,358 सीवीई रिपोर्ट रेकॉर्ड  की गई, 2019 में 17,305 से अधिक 6 प्रतिशत से बढ़ी, और 2015 में 6,487 से अधिक 183 प्रतिशत की वृद्धि का खुलासा किया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) में पहले से मौजूद कमज़ोरियों का सोलुशन , 2019 या उससे पहले शुरू किए गए कई साइबर सोलूशन और साइबर स्टेट्स के लिए पसंदीदा लक्ष्य बना हुआ है।

गूगल क्रोम, मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स, इंटरनेट एक्सप्लोरर और माइक्रोसॉफ्ट एज जैसे वेब ब्राउज़र शून्य-दिन सिक्योरिटी अटैकर्स का प्राथमिक लक्ष्य हैं.

2021 में, यह आवश्यक है कि हमारे पास ऐसे अटैक्स से बचने के लिए अपनी कमजोरिआ  ढूँढ़के उनपर प्रभावी ढंग से काम करके, उनको निकलना होगा. इसके लिए जरुरी उपकरण, यूजर्स में जागरूकता और बुद्धिमत्ता हो। यह केवल इस बात पर निर्भर करता है कि हम कहां से आए हैं, हम प्रभावी रूप से आगे जाने  के लिए योजना बना के, योजनाबद्व  तरीके से इन मुश्किलोंका सामना करे और जागरूक, सतर्क रहे और दूसरोंको भी सतर्क रखें।

हमने आपक्रो यूजर अवेयरनेस हमारी वेबसाइटपर पाहिले ही शेर किया हे, कृपया उसे फोलोव करे.

और कोई भी सोलुशन ओर डिसकशन के लिए ईमेल करे discuss@itinfrasec.in 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *